हम आपन आस्था अभी से यीशु में रखऽ तानी......एकरा बाद का करे के होई?




हम आपन आस्था अभी से यीशु में रखऽ तानी......एकरा बाद का करे के होई?

बहुते बधाई! रउआ जीवन बदले वाला निर्णय लेले बानी! शायद रउआ पूछ रहल बानी कि “अब का करीं”? बाइबिल के निर्देश के मुताबिक 5 कदम रउआ के नीचे बतावल जा रहल बा। - www.GotQuestions.org/Bhojpuri.

1. पहिले इ पक्का कर लिहीं कि रउआ मोक्ष समझ लेले बानी।

1 जॉन 5:13 में हमनी से कहल बा, “हम इ सब तहरा खातिर लिख रहल बानी जे ईश्वर के संतान के नाम में आस्था रखऽ ता कि तू जान सकऽ कि तहरा पास अनन्त जीवन बा”। ईश्वर चाहऽ ताड़े कि हमनी के मोक्ष के समझीं। ईश्वर चाहऽ ताड़े कि एह जानकारी में पक्का विश्वास रखीं कि हमनी के बचावल गइल बा। सारांश में मोक्ष के कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुअन पर हमनी के एक नज़र डालीं:

(क) हम सब पाप कइले बानी। हमनी के उ सब कुछ कइले बानी जेकरा से परमेश्वर नाखुश होखस (रोमन 3:23)।

(ख) हमनी के पाप के कारण, सजा के तौर पर ईश्वर से अनन्त काल तक दूर रहे लायक बानी। (रोमन 6:23)।

(ग) हमनी के पाप के प्रायश्चित करे खातिर यीशु शूली पर चढ़ गइले। (रोमन 5:8; 2 कॉरिन्थियन्स 5:21)। हमनी के जगह यीशु प्राण के त्याग कइले, उ साजा भोगे खातिर, जेकरा लायक हमनी के रहीं जा। उनकर पुनर्जन्म इ बात के साबित कइलस कि हमनी के पाप के सजा खातिर उनकर मृत्यु पर्याप्त रहे।

(घ्) ईश्वर सबके माफी दे देले अउर उ सभी के मोक्ष दे देले जे यीशु में अस्था रखले रहे- जेकरा इ विश्वास रहे उनकर मृत्यु हमनी के पाप के सजा रहे (जॉन 3:16;रोमन 5:1; रोमन 8:1)

इहे मोक्ष के संदेश ह! अगर अपना रक्षक के रूप में ईसा मसीह में आस्था रखब, तू बांच जइब। तहार सब पाप खतिर माफी मिल जाई, अउर इ ईश्वर वादा करिहें कि उ कभी तहरा के छोड़ के ना जइहें अउर ना हीं तहरा के नष्ट होखे दिहें। (रोमन 8:38; मैथ्यु 28:20) । याद रखी ह कि ईसा मसीह के शरण में तहार मुक्ति पक्का बा ( जॉन 10:28-29)। अगर अकेला रक्षक के रूप में यीशु पर आस्था रखब, तहरा इ आत्मविशस पैदा हो सक ता कि स्वर्ग में ईश्वर के साथ अनन्त जीवन के प्राप्ति होखी।

2. एगो बढ़िया गिरजा घर खोजीं जँहवां बाइबिल पढ़ावल जात होखे।

कभी भी गिरजाघर के एगो इमारत मत समझीं। गिरजाघर के मतलब लोगन से हो ला। सबसे महत्वपूर्ण बा ईसा मसीह के नाम पर मेलजोल बढ़ावल। इहे कौनो गिरजाघर के पहिला उद्देश्य होला। अब जब रउआ ईसा मसीह में आपन अस्था रख लेले बानी, त हम सलाह देब कि अपना इलाका में कौनो बाइबिल में विश्वास रखे वाला गिरजाघर के तलाश करीं अउर पादरी से बात करीं। उनका के बताईं कि रउआ ईसा मसीह में अभी नया आस्था भ्इल बा।

गिरजाघर के दूसरका उद्देश्य हो ला बाइबिल के पढ़ावल रउआ सीख सक तानी के ईश्वर के सीख के जीवन में कइसे अपनाईं। सफल अउर ताकतवर इसाई जीवन जीए खातिर जरूरी बा कि बाइबिल के समझल जाव। 2टिमॉथी 3:16-17 में कहल बा, “ पूरा बाइबिल ईश्वर के वचन ह अउर बहुत ही उपयोगी नेकी के शिक्षा, फटकार, सुधार अउर परशिक्षण बा, एह से कि ईश्वर के आदमी हर अच्छा काम से पूरी तरह लैस रहे”।

गिरजाघर के तीसरका उद्देश्य हो ला पूजा। पूजा होला जवन भी ईश्वर कइले बाड़े, ओकरा खातिर उनका के धन्यवाद दिहल। ईश्वर हमनी के बचइले बाड़े। ईश्वर हमनी से प्रेम करेले। ईश्वर हमनी के मार्गदर्शन करेले अउर निर्देश देबे ले। त हमनी के उनका के कइसे धन्यवाद ना देब। ईश्वर पवित्र, नेक, प्रेम करे वाला, दयालु अउर महिमा से भरल बाड़े। आकाशवाणी 4:11 में घोषणा कइल बा, “ तू योग्य बाड़, हे प्रभु अउर ईश्वर, महिमा अउर आदर अउर शक्ति प्राप्त करे खातिर, एकरा खातिर कि तू सब चीजन के रचना कइले बाड़, अउर तहरा इच्छा से उस सब रचना भइल बा अउर उ सब अस्तित्व में आइल बा।

3. ईश्वर के ध्यान करे खातिर ध्यान निकालीं।

इ हमनी खातिर बहुत महत्वपूर्ण बा कि ईश्वर के ध्यान में रोज कुछ समय बितावल जाए। कुछ लोग एकरा के “शांत समय” कहेला त कुछ लोग “भक्ति”, काहें कि इहे उ समय होला जब हम अपना आप के ईश्वर के प्रति समर्पित कर देबे नी। कुछ लोग सुबह में समय निकलेला, त कुछ लोग शाम में। एकरा से कौनो फरक नइखे पड़त कि रउआ एकरा के का कह तानी चाहे कौना समय कर तानी। महत्वपूर्ण इ बा कि रउआ नियमित रूप से ईश्वर के साथ समय बिताईं। कौन कार्यकलाप हमनी के समय ईश्वर के साथ बितावे खातिर बा।

(क) प्रर्थना, प्रार्थना के सीधा अर्थ बा ईश्वर से बतियावल। ईश्वर से आपन चिन्ता अउर समस्या के बारे में बात करीं। ईश्वर से कहीं कि उ रउआ के समझ अउर मार्गदर्शन देस। ईश्वर से कहीं कि उ राउर जरूरत के पूरा करस। ईश्वर के बताईं कि कतना रउआ उनका से प्रेम करेनी अउर उ जतना रउआ खातिर कइले बाड़े ओकरा खातिर रउआ कतना मानेनी। इहे सब है जवन प्रार्थना में कइल जाला।

(ख) बाइबिल के पढ़ल, गिरजाघर, एतवार के स्कूल, अउर/चाहे बाइबिल स्टडिज में जवन बाइबिल पढ़ावल जाला ओकरा अलावा रउआ खुद से भी बाइबिल पढ़े के जरूररत बा। एगो सफल इसाई जीवन जीए खातिर जवन कुछ जाने के जरूरत बा, उ सब कुछ बाइबिल में दिहल बा। एकरा में ईश्वर के दिशानिर्देश दिहल बा कि, कइसे समझदारी भरल निर्णय लेबे के चाहीं, ईश्वर के इच्छा कइसे जानीं, कइसे दूसर लोग के सेवा करीं, अउर आध्यात्मिक रूप से कइसे विकास कइल जाए। बाइबिल हमनी खातिर ईश्वर के वाणी ह। बाइबिल ईश्वर के निर्देश के नियम-पुस्तिका ह जवन बतावेला कि हमनी के कइसे जीवन जिए के चाहीं जेकरा से ईश्वर प्रसन्न रहस अउर हमनी के संतुष्टि मिले।

4. वइसन लोगन संबंध बढ़ावे के चाहीं जेकरा से आध्यात्मिक तौर पर मदद मिले।

1 कॉरिन्थियन्स 15:33 में कहल बा, “ भटक मत : बुरा संगत अच्छा चरित्र के भी भ्रष्ठ कर देला।” बाइबिल अइसन चेतावनीयन से भरल बा, जेकरा में बुरा लोगन के हमनी पर का प्रभाव पड़ी आकरा बारे में बतावल बा। जवन लोग पापयुक्त गतिविधयन में लागल बा, ओकरा संग समय बितवला से खुद भी आदिमी उ गतिविधयन के तरफ आकर्षित हो सक ता। हमनी के आसपास रहे वाला लोगन के चरित्र के असर हमनियो पर पड़ेला। एहसे जरूरी बाकि हम वइसन लोगन के संगत में रहीं जे प्रभु से प्रेम करत होखे अउर अनका प्रति समर्पित होखे।

एगो चाहे दूगो संघतिया खोजे के प्रयास कर, उ गिरजाघर से भी हो सकऽता, जे तहार सहायता कर सके अउर तहरा के बढ़ावा दे सके।(हरब्रियु 3:13; 10:24)। अपना संघतिया से कहऽ कि उ तहार ध्यान के समय, गतिविधि अउर ईश्वर के अराधना पर नजर रखे। तूहूं अइसही आपन संघतियन के साथ अइसहीं करे खातिर पूछऽ। एकर इ मतलब नइखे कि आपन उ सब संघतियन के छोड़ द , जे जानत ना होखे कि प्रभु यीशु हमनी के रक्षक हवे। ओहनियन से भी दोस्ती बनइले रखऽ अउर ओहनी से भी प्रेम करऽ। ओहनी के बताव कि यीशु कइसे तहार जीवन बदल देले अउर तू उ सबकुछ नइखऽ कर सकत जे ओहनी के कर ताड़े स। ईश्वर से पूछऽ कि उ तहरा के अपना संघतियन से यीशु के बारे में बतियावे के मौका देस।

5. बपतिस्मा करा ल

बहुत आदमी बपतिस्मा के बारे में गलत समझ रखे ला। शब्द “ बैपटाइज़” के मतलब होला पानी में डुबावल। बपतिस्मा बाइबिल में वर्णित एगो तरीका ह जेकरा में दुनिया के सामने यीशु में आस्था अउर उनकर बतावल रास्ता पर चले खातिर घोषणा कइल जाला। पानी में डुबावे के गतिविधि के मतलब होला यीशु के साथ दफन कइल। पानी से बाहर निकलला के मतलब होला यीशु के पुनर्जन्म के सा पुनर्जन्म। बपतिस्मा करइला के मतलब होला अपना आप के यीशु के मृत्यु, दफन अउर पुनर्जन्म के साथ जोड़ल।(रोमन 6:3-4)।

बपतिस्मा उ ना ह जे तहरा के बचाई। बपतिस्मा तहार पाप के भी ना मिटाई। इ एगो सीधा-सादा कदम ह आज्ञाकारी के, सार्वजनिक रूप से स्वीकार कइला के कि तहार अस्था मोक्ष खातिर सिर्फ यीशु में बा। बपतिस्मा महत्वपूर्ण बा एह से कि इ एगो आज्ञाकारी कदम ह, सार्वजनिक रूप से घोषणा कइल जाला कि यीशु में अस्था बा अउर उनका प्रति वचनबद्धता बा। अगर तू एकरा खतिर तैयार बाड़ऽ, तहरा पादरी से बात करे के चाहीं।



भोजपुरी हामपेज में वापस



हम आपन आस्था अभी से यीशु में रखऽ तानी......एकरा बाद का करे के होई?