दशमांश देने के विषय में बाइबल क्या कहती है?



प्रश्न: दशमांश देने के विषय में बाइबल क्या कहती है?

उत्तर:
दशमांश देना एक ऐसा विवाद विषय है जिसके साथ कई क्रिश्चियन संघर्षरत हैं । कई कलीसियाओं में दशमांश देने को अति महत्व दिया गया है । ठीक उसी समय, कई क्रिश्चियन प्रभु को भेंट देने के संबंध में इस बाइबल उपदेश के प्रति समर्पण से इन्कार करते हैं । दशमांश देने का सभिप्राय - एक आनन्द है, एक आशीष है । दुर्भाग्य से, आज के समय में, कलीसिया में ऐसे उदाहरण बहुत कम बचे हैं ।

दशमांश देना पुराने नियम का विचार है । दशमांश देना उस व्यवस्था की एक माँग थी जिसमें सारे इज़रायलियों को अपनी कमाई तथा उपज में से १० प्रतिशत आराधनालयों तथा मंदिरों में देना पड़ता था (लैव्यव्यवस्था २७:३०; गिनती १८:२६; व्यवस्थाविवरण १४:२४; २ इतिहास ३१:५) । कुछ लोग पुराने नियम के अनुसार दशमांश देने को याजकों तथा लेवियों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कर-प्रणाली के रूप में इस्तेमाल करते थे । नया नियम कहीं आज्ञा नहीं देता, या सलाह तक नहीं देता कि एक कानूनी तरह के दशमांश देने की प्रणाली के प्रति क्रिश्चियन समर्पण करें । पौलुस कहता है कि विश्वासियों को कलीसिया की सहायता के लिये अपनी कमाई का कुछ हिस्सा अलग कर देना चाहिये (१कुरिन्थियों १६:१-२) ।

नये नियम से कमाई में से अलग रखने का कोई निश्चित प्रतिशत के बारे में कहीं नहीं कहता, परन्तु केवल यह कहता है कि वह "अपनी आमदनी के अनुसार" हो (१कुरिन्थियों १६:२) । क्रिश्चियन कलीसिया ने पुराने नियम के दशमांश की १० प्रतिशत की गिनती को अनिवार्यता से ले लिया तथा उसको मसीहियों को अपनी भेंटें देने के लिये एक "न्यूनतम" के रूप में लागू कर दिया । हलांकि, मसीहियों को हमेशा दशमांश देने के लिये अपने आप को बाध्य नहीं समझना चाहिये । वो तब दें जब वो समर्थ हों "अपनी आमदनी के अनुसार"। कभी-कभी इसका अर्थ दशमांश से अधिक देना हो जाता है, कभी-कभी इसका अर्थ दशमांश से कम हो सकता है । यह सब क्रिश्चियन की सामर्थ तथा कलीसिया की आवश्यकता पर निर्भर करता है । हर एक क्रिश्चियन को लगन से प्रार्थना करनी चाहिये तथा परमेश्वर का ज्ञान प्राप्त करना चाहिये यह जानने के लिये कि क्या वो दशमांश देने में वो भागीदारी करे तथा उसे कितना देना चाहिये (याकूब १:५)। "हर एक जन जैसा मन में ठाने वैसा ही दान करें; न कुठ़-कुठ़ के, और न दबाव से, क्योंकि परमेश्वर हर्ष से देने वालों से प्रेम रखता है" (२कुरिन्थियों ९:७) ।



हिन्दी पर वापस जायें



दशमांश देने के विषय में बाइबल क्या कहती है?