बाइबल प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाक़ातें/प्रेमालाप करने के बारे में क्या कहती है?



प्रश्न: बाइबल प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाक़ातें/प्रेमालाप करने के बारे में क्या कहती है?

उत्तर:
हांलाकि शब्द "प्रेमालाप" या प्रणय निवेदन और प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए "मुलाक़ातें" अर्थात् डेटिंग करना बाइबल में नहीं पाए जाते हैं, हमें कुछ सिद्धांतों को दिया गया हैं जिनके अनुसार मसीहियों को विवाह से पूर्व जीवन व्यतीत करना चाहिए। पहला यह है कि हमें स्वयं को इस संसार में प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाकातों की विचारधारा से अलग करना है क्योंकि परमेश्वर के मार्ग इस संसार के विरोध में हैं (2 पतरस 2:20)। जबकि इस संसार में हो सकता है कि प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए लोग जितना अधिक चाहे उतना अधिक मुलाकातों के चारों ओर घूमता रहें, महत्वपूर्ण बात किसी भी प्रतिज्ञा को किसी लड़के या लड़की के साथ करने से पहले उसके चरित्र की खोज करना है। हमें पता लगा लेना चाहिए कि यदि वह व्यक्ति मसीह की आत्मा में नया जन्म प्राप्त है या नहीं (यूहन्ना 3:3-8) और यदि वह मसीह-जैसे स्वरूप को पाने की इच्छा करता या करती है या नहीं (फिलिप्पियों 2:5)। प्रेम सम्बन्ध के लिए मुलाकातों या प्रेमालाप का अन्तिम लक्ष्य एक जीवन साथी की खोज करना है। बाइबल हमें बताती है कि, मसीही विश्वासी होने के नाते, हमें किसी अविश्वासी के साथ विवाह नहीं करना चाहिए (2 कुरिन्थियों 6:14-15) क्योंकि यह मसीह के साथ हमारे सम्बन्धों को कमजोर और हमारी नैतिकताओं और आदर्शों के साथ समझौता कर देगा।

जब कोई एक समर्पित सम्बन्ध में होता है, चाहे वह प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाक़ातें या प्रेमालाप ही क्यों न हो, सभी बातों से ऊपर प्रभु को प्रेम करना स्मरण रखना महत्वपूर्ण बात है (मत्ती 10:37)। यह कहना और विश्वास करना कि अन्य व्यक्ति ही "सब कुछ" है या किसी के जीवन में सबसे महत्वपूर्ण बात मूर्ति पूजा है, जो कि पाप है (गलातियों 5:20; कुलुस्सियों 3:5)। इसके अतिरिक्त, हमें हमारे शरीरों को विवाह पूर्व यौन में सम्मिलित हो कर अशुद्ध नहीं करना चाहिए (1 कुरिन्थियों 6:9, 13; 2 तीमुथियुस 2:22)। यौन अनैतिकता न केवल परमेश्वर के विरूद्ध पाप है अपितु हमारे अपने शरीरों के विरूद्ध पाप है (1 कुरिन्थियों 6:18)। जैसे हम स्वयं को प्रेम करते हैं वैसे ही अन्यों को प्रेम और आदर देना महत्वपूर्ण है (रोमियों 12:9-10), और यह प्रेमालाप या प्रणय निवेदन या प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाक़ातें अर्थात् डेटिंग करने के लिए निश्चित रूप से सत्य है। चाहे हम प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाक़ातें करें या प्रेमालाप ही क्यों न करें, बाइबल आधारित इन सिद्धान्तों का अनुसरण एक विवाह के लिए सुरक्षित नींव को पाने के लिए सबसे उत्तम तरीका है। यह हमारे जीवन में अभी तक किए जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण निर्णयों में से एक है, क्योंकि जब दो लोग विवाह करते हैं, तो वे एक दूसरे से मिल जाते हैं और एक ऐसे सम्बन्ध में एक तन हो जाते हैं जिसे परमेश्वर ने स्थाई और न टूटने की मंशा से बनाया है (उत्पत्ति 2:24; मत्ती 19:5)।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बाइबल प्रेम सम्बन्ध बनाने के लिए मुलाक़ातें/प्रेमालाप करने के बारे में क्या कहती है?