बाइबल तनाव के बारे में क्या कहती हैॽ कैसे एक मसीही विश्वासी तनाव के ऊपर विजय प्राप्त कर सकता हैॽ



प्रश्न: बाइबल तनाव के बारे में क्या कहती हैॽ कैसे एक मसीही विश्वासी तनाव के ऊपर विजय प्राप्त कर सकता हैॽ

उत्तर:
तनाव या अवसाद एक बड़े पैमाने पर फैली हुई अवस्था है, जिसने लाखों लोगों को, मसीहियों या गैर-मसीहियों को एक समान प्रभावित किया हुआ है। जो तनाव से पीड़ित हैं वे उदासी, क्रोध, निराशा, थकान, और विभिन्न तरह के अन्य लक्षण की तीव्र भावनाओं का अनुभव कर सकते हैं। वे स्वयं को बेकार और यहाँ तक कि आत्मघाती होना महसूस करते हुए, उन कामों और लोगों में रूचि को खो सकते हैं, जिनके साथ वे कभी आनन्द मनाते थे। तनाव अक्सर जीवन की ऐसी परिस्थितियों से आरम्भ होता है, जैसे नौकरी को खो देना, किसी प्यारे व्यक्ति की मृत्यु, तलाक या मनोवैज्ञानिक समस्याओं का होना जैसे आपको किसी ने दुरुपयोग किया हो या स्वाभिमान की कमी का होना।

बाइबल हमें बताती है कि हमें आनन्द और स्तुति से भरे हुए होना चाहिए (फिलिप्पियों 4:4; रोमियों 15:11), इस कारण परमेश्वर ने हम सब के लिए यही मंशा की है कि हम आनन्द से भरे हुए जीवन को व्यतीत करें। ऐसा उस व्यक्ति के लिए आसान नहीं है जो कि परिस्थिति आधारित तनाव से पीड़ित है, परन्तु यह परमेश्वर से प्रार्थना करने, बाइबल अध्ययन और इसे जीवन में लागू करने, समूहों से मिलने वाली सहायता, विश्वासियों के मध्य में सहभागिता, अंगीकार, क्षमा और परामर्शदान के वरदानों के द्वारा चंगा हो सकता है। हमें स्वयं को अपने में न खोने के लिए सचेत रूप से कोशिश करनी चाहिए, अपितु अपनी कोशिशों को बाहर की ओर लगाए रखना चाहिए। तनाव के अहसासों को अक्सर तब समाधान किया जा सकता है, जब वे जो तनाव से पीड़ित हैं अपने ध्यान को मसीह और अन्यों के ऊपर केन्द्रित कर लेते हैं।

नैदानिक तनाव एक ऐसी शारीरिक परिस्थिति होती है जिसे किसी डॉक्टर के द्वारा निदान किया जाना चाहिए। हो सकता है यह जीवन की दुर्भाग्य से भरी हुई परिस्थितियों के कारण उत्पन्न हुई हो, न ही इसके लक्षण किसी व्यक्ति की स्वयं की इच्छा के द्वारा दूर किए जा सकते हैं। कुछ मसीही समुदायों की मान्यताओं के विपरीत, नैदानिक तनाव सदैव पाप के कारण उत्पन्न नहीं होता है। कई बार तनाव एक शारीरिक विकार के कारण भी हो सकता है, जिसका इलाज ध्यान मनन और/या परामर्श के द्वारा किए जाने की आवश्यकता है। इसमें कोई सन्देह नहीं है कि परमेश्वर किसी भी रोग या विकार को चंगा करने में सक्षम है। परन्तु फिर भी, कुछ घटनाओं में, तनाव के लिए किसी डॉक्टर से परामर्श लेना किसी भी तरह से एक डॉक्टर को एक चोट के लिए परामर्श लेने से भिन्न नहीं है।

कुछ ऐसी बातें हैं जिन्हें वे जो तनाव से पीड़ित हैं, अपनी चिन्ता को हटाने के लिए कर सकते हैं। उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए के वे वचन में बने रहेंगे, तब भी जब वे इसे पसन्द न करते हो। भावनाएँ हमें भटका सकती हैं, परन्तु परमेश्वर का वचन दृढ़ता से खड़ा रहता और अपरिवर्तनशील है। हमें परमेश्वर में दृढ़ विश्वास के साथ बने रहना चाहिए और यहाँ तक और भी ज्यादा मजबूती के साथ उसे पकड़े रहना चाहिए जब हम परीक्षाओं और परेशानियों में से होकर निकलते हैं। बाइबल हमें बताती है कि परमेश्वर हमें हमारे जीवनों में किसी भी ऐसी परीक्षा में नहीं जाने देगा जिसे हम सहन नहीं कर सकते हैं (1 कुरिन्थियों 10:13)। हांलाकि, तनाव एक पाप नहीं है, परन्तु फिर भी एक व्यक्ति पीड़ा के प्रति अपनी प्रतिक्रिया के लिए उत्तरदायी है, जिसमे व्यावसायिक सहायता भी सम्मिलित है जिसकी आवश्यकता होती है। "इसलिए हम उसके द्वारा स्तुतिरूपी बलिदान, अर्थात् उन होठों का फल जो उसके नाम का अंगीकार करते हैं - परमेश्वर को सर्वदा चढ़ाया करें" (इब्रानियों 13:15)।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बाइबल तनाव के बारे में क्या कहती हैॽ कैसे एक मसीही विश्वासी तनाव के ऊपर विजय प्राप्त कर सकता हैॽ