मैं कैसे एक झूठे शिक्षक/झूठे भविष्यद्वक्ता को पहचान सकता हूँॽ



प्रश्न: मैं कैसे एक झूठे शिक्षक/झूठे भविष्यद्वक्ता को पहचान सकता हूँॽ

उत्तर:
यीशु हमें चेतावनी देता है "झूठे शिक्षक/झूठे भविष्यद्वक्ता उठ खड़े होंगे और यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा देगें (मत्ती 24:23-27; 2 पतरस 3:3 को भी देखें और यहूदा 17-18)। स्वयं को झूठ और झूठे शिक्षकों से सुरक्षित रखने का सबसे उत्तम तरीका सत्य को जानना है। नकली का पता लगाने के लिए, असल बात का अध्ययन करें। कोई भी विश्वासी जो "सत्य के वचन को ठीक रीति से काम में लाता हो (2 तिमुथियुस 2:15) और बाइबल का सावधानी से अध्ययन करता है, झूठे धर्मसिद्धान्तों की पहचान कर सकता है। उदाहरण के लिए, एक विश्वासी जिसने पिता,पुत्र और पवित्र आत्मा के कार्यों को मत्ती 3:16-17 में पढ़ लिया है, तुरन्त किसी भी धर्मसिद्धान्त के प्रति प्रश्न करेगा जो त्रिएकत्व को अस्वीकार कर देता है। इस कारण, कदम एक यह है कि बाइबल का अध्ययन किया जाए और उन सभी शिक्षाओं का जाँच जो कुछ पवित्र शास्त्र कहता है उसके द्वारा की जाए।

यीशु ने कहा "पेड़ अपने फल ही से पहचाना जाता है" (मत्ती 12:33)। जब "फल" को देखा जाता है तो तीन विशेष जाँचें हैं जिन्हें कोई भी एक शिक्षक इस बात का निर्धारण करने के लिए लागू करता है कि उस पुरूष या स्त्री की शिक्षा शुद्घ हैं या नहीं:

1) यह शिक्षक यीशु के बारे में क्या कहता हैॽ मत्ती 16:15-16 में यीशु पूछता है, "परन्तु तुम मुझे क्या कहते होॽ" शमौन पतरस ने उत्तर दिया, "तू जीवते परमेश्वर का पुत्र मसीह है," और इस उत्तर के लिए पतरस को "धन्य" कह कर पुकारा गया है। 2 यूहन्ना 9 में हम पढ़ते हैं, "जो कोई मसीह की शिक्षा से आगे बढ़ जाता है और उसमें बना नहीं रहता, उसके पास परमेश्वर नहीं; जो कोई उसकी शिक्षा में स्थिर रहता है, उसके पास पिता भी है और पुत्र भी।" दूसरे शब्दों में, यीशु मसीह और उसके छुटकारे का कार्य सर्वोच्च रूप से महत्वपूर्ण है; इसलिए हर उस व्यक्ति से सावधान रहें जो यह इन्कार करता है कि यीशु परमेश्वर के बराबर है, जो यीशु की बलिदान से भरी हुई मृत्यु को नीचा दिखाता, या जो यीशु की मानवता का इन्कार कर देता है। पहला यूहन्ना 2:22 कहता है, "झूठा कौन हैॽ केवल वह जो यीशु जो यीशु के मसीह होने से इन्कार करता है; और मसीह का विरोधी वही है - जो पिता का और पुत्र का इन्कार करता है।"

2) क्या ये शिक्षक सुसमाचार का प्रचार करते हैंॽ सुसमाचार की परिभाषा ऐसे दी गई है कि यह पवित्र शास्त्र के अनुसार यीशु की मृत्यु, उसके गाड़े जाने और उसके जी उठने के सम्बन्ध में शुभ सन्देश है (1 कुरिन्थियों 15:1-4)। जितना अच्छे यह कथन सुनाई देते हो "परमेश्वर आपको प्रेम करता है," परमेश्वर हमसे चाहता है कि हम भूखों को भोजन खिलाए," और "परमेश्वर आपके लिए चाहता है कि आप सम्पन्न हो" परन्तु ये सुसमाचार का पूरा सन्देश नहीं है। जैसा कि पौलुस ने गलातियों 1:7 में चेतावनी दी है, "पर बात यह है कि कितने ऐसे हैं जो तुम्हें घबरा देते हैं, और मसीह के सुसमाचार को बिगाड़ना चाहते हैं।" कोई भी नहीं, यहाँ तक कि किसी भी महान् सुसमाचार प्रचारक को यह अधिकार नहीं है कि वह उस सन्देश को जिसे परमेश्वर ने हमें दिया है, परिवर्तित कर दे। "उस ससमाचार को छोड़ जिसे तुम ने ग्रहण किया है, यदि कोई और सुसमाचार सुनाता है, तो शापित हो" (गलातियों 1:9)।

3) क्या ये शिक्षक ऐसे चरित्रिक गुणों को प्रदर्शित करते हैं जो प्रभु को महिमा देता होॽ झूठे शिक्षकों के बारे में बोलते समय, यहूदा 11 कहता है, "क्योंकि वे कैन की सी चाल चले, और मजदूरी के लिए बिलाम के समान भ्रष्ट हो गए हैं, और कोरह के समान विरोध करके नष्ट हो गए हैं।" दूसरे शब्दों में, एक झूठे शिक्षक को उसके घमण्ड (कैन के द्वारा परमेश्वर की योजना को इन्कार कर देना), लालच (बिलाम का पैसे के लिए भविष्यद्वाणी करना), और विद्रोह (कोरह का मूसा के बदले स्वयं को बढ़ावा देना) से पहचाना जा सकता है। यीशु ने कहा कि ऐसे लोगों से सावधान रहना है और हम उन्हें उनके फलों के द्वारा पहचान लेंगें (मत्ती 7:15-20)।

और आगे के अध्ययन के लिए, बाइबल में दी हुई उन पुस्तकों की समीक्षा करें जो कि विशेष रूप से कलीसिया के मध्य में झूठी शिक्षा का सामना करने के लिए लिखी गई हैं: गलातियों, 2 पतरस, 1 यूहन्ना, 2 यूहन्ना और यहूदा। अक्सर एक झूठी शिक्षक/झूठे भविष्यद्वक्ता की पहचान करना कठिन होता है। शैतान ज्योतिर्मय स्वर्गदूत का रूप धारण करता है (2 कुरिन्थियों 11:14), और उसके सेवक भी धर्म के सेवकों का रूप धारण करते हैं (2 कुरिन्थियों 11:15)। केवल सत्य से अच्छी तरह से परिचित होने के बाद ही हम नकली या जाली की पहचान करने के योग्य हो पाएगें।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



मैं कैसे एक झूठे शिक्षक/झूठे भविष्यद्वक्ता को पहचान सकता हूँॽ