बाइबल चंगाई के बारे में क्या कहती हैॽ क्या मसीह के प्रायश्चित में चंगाई हैॽ



प्रश्न: बाइबल चंगाई के बारे में क्या कहती हैॽ क्या मसीह के प्रायश्चित में चंगाई हैॽ

उत्तर:
यशायाह 53:5, इसके बाद फिर 1 पतरस 2:24 का उद्धत किया जाता है, चंगाई के ऊपर कुँजी वचन हैं, परन्तु अक्स इन्हें गलत समझा गया है और गलत उपयोग किया जाता है। "परन्तु वह हमारे ही अपराधों के कारण घायल किया गया, वह हमारे अधर्म के कामों के कारण कुचला गया; हमारी ही शान्ति के लिए उस पर ताड़ना पड़ी, कि उसके कोड़े खाने से हम लोग चंगे हो जाएँ।" जो शब्द "चंगे" अनुवादित हुआ है का अर्थ आत्मिक या शारीरिक किसी भी चंगाई से हो सकता है। परन्तु फिर भी, यशायाह 53 और 1 पतरस 2 की पृष्ठभूमी स्पष्ट कर देती है कि यह आत्मिक चंगाई के लिए बोल रहा है। "वह आप ही हमारे पापों को अपनी देह पर लिए हुए क्रूस पर चढ़ गया, जिससे हम पापों के लिए मरकर धार्मिकता के लिए जीवन बिताएँ: उसी के मार खान से तुम चंगे हुए" (1 पतरस 2:24) यह वचन पाप और धार्मिकता की बात कर रहा है, न कि बिमारी और रोग की। इसलिए, इन दोनों वचनों में "चंगे" होने का अर्थ क्षमा किए जाने और बचाए जाने से है, न कि शारीरिक चंगाई से है।

बाइबल विशेष रूप से शारीरिक चंगाई को आत्मिक चंगाई क साथ नहीं जोड़ती है। कई बार लोग शरीरिक रूप से चंगे होते हैं जब वे मसीह में अपने विश्वास को रखते हैं, परन्तु ऐसा सदैव नहीं होता है। कई बार चंगा करना परमेश्वर की इच्छा है, परन्तु कई बार यह नहीं है। प्रेरित यूहन्ना हमें इसके प्रति एक उचित दृष्टिकोण देता है: "और हमें उसके सामने जो हियाव होता है, वह यह है; कि हम उसकी इच्छा अनुसार कुछ माँगते हैं, तो वह हमारी सुनता है। जब हम जानते हैं कि जो कुछ माँगते हैं – वह हमारी सुनता है – तो यह भी जानते हैं कि जो कुछ हमने उससे मांगा, वह पाया है" (1 यूहन्ना 5:14-15)। परमेश्वर अभी भी आश्चार्यकम्रों को प्रगट करता है। परमेश्वर अभी भी लोगों को चंगा करता है। बिमारियाँ, रोग, दुख और मृत्यु अभी भी इस संसार की वास्तविकताएँ हैं। जब तक प्रभु पुन: वापस नहीं आ जाता है, तब तक प्रत्येक व्यक्ति जो आज जीवित है, वह मरेगा, और उनमें से एक बहुत बड़ा बहुमत (जिसमें मसीही विश्वासी भी सम्मिलित हैं) भी शरीरिक समस्या (बिमारी, रोग, चोट) के परिणाम से मरेंगे। यह सदैव परमेश्वर की इच्छा नहीं है कि वह हमें शारीरिक रूप से चंगा करे।

अन्त में, हमारी पूर्ण चंगाई स्वर्ग में हमारा प्रतीक्षा कर रही है। स्वर्ग में, वहाँ पर किसी तरह को कोई दर्द, बिमारी, दुख या मृत्यु न होगी (प्रकाशितवाक्य 21)। हम सभी इस संसार की हमारी शारीरिक परिस्थिति से बहुत कम व्यस्त होगें और हमें हमारी आत्मिक परिस्थिति के बारे में ज्यादा चिन्तित होने की आवश्यकता है (रोमियों 12:1-2)। तब हम हमारे हृदयों को स्वर्ग की ओर केन्द्रित कर सकते हैं जहाँ पर हमें और ज्यादा शारीरिक समस्याओं का निपटारा करने की आवश्यकता न रहेगी। प्रकाशितवाक्य 21:4 सच्ची चंगाई का विवरण देती है जिसकी हम सभों को लालसा करनी चाहिए: "वह उनकी आँखों से सब आँसू पोंछ डालेगा; और उसके बाद मृत्यु न रहेगी, और न शोक, न विलाप, न पीड़ा रहेगी; पहली बातें जाती रही।"



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बाइबल चंगाई के बारे में क्या कहती हैॽ क्या मसीह के प्रायश्चित में चंगाई हैॽ