बाइबल एक विश्वासी के बारे में क्या कहती है जो सैन्य सेवा में कार्यरत् हैॽ



प्रश्न: बाइबल एक विश्वासी के बारे में क्या कहती है जो सैन्य सेवा में कार्यरत् हैॽ

उत्तर:
बाइबल में सेना में सेवा करने के बारे में बहुतायत के साथ जानकारियाँ दी गई हैं। जबकि बाइबल में सेना के प्रति किए गए बहुत से संदर्भ केवल रूपक के समान हैं, बहुत से वचन प्रत्यक्ष में इस प्रश्न के साथ सम्बन्धित हैं। बाइबल विशेष रूप से यह नहीं कहती है कि किसी को सेना में सेवा देनी चाहिए या नहीं। ठीक उसी समय, मसीही विश्वासियों को आश्वासन दिया गया है कि एक सैनिक होना पूरे के पूरे पवित्र शास्त्र में सम्मानजनक माना गया है और यह जाने कि इस तरह की सेवा बाइबल आधारित दृष्टिकोण के साथ मान्य हैं।

सैन्य सेवा का पहला उदाहरण पुराने नियम में मिलता है (उत्पत्ति 14), जब अब्राहम के भतीजे लूत को एदाम के राजा कदोर्लाओमेर और उसके संगी राजाओं ने अपहारण कर लिया था। अब्रहाम ने लूत की सहायता में अपने घराने से 318 प्रशिक्षित योद्धाओं इकट्ठा करने के साथ उनके विरूद्ध युद्ध किया और एलामियों को पराजित किया। यहाँ हम देखते हैं कि अस्त्र शास्त्र धारण सशस्त्र सैन्य बल एक अच्छे कार्य – निर्दोष को बचाने और सुरक्षा देने में लगा हुआ है।

इतिहास में बाद में, इस्राएल के राष्ट्र ने अपनी स्थाई सेना को विकसित किया। अर्थ यह है कि परमेश्वर दिव्य योद्धा है और उसके लोगों को उनकी सैन्य शाक्ति के होने न होने की परवाह किए बिना वह उनकी सुरक्षा करेगा, एक कारण हो सकता है कि क्यों इस्राएल अपनी स्थाई सेना को विकसित करने में धीमा रहा था। इस्राएल में नियमित रूप से बनी रहने वाली स्थाई सेना का विकास शाऊल, दाऊद और सुलेमान के द्वारा विकसित एक शाक्तिशाली, केंद्रीकृत राजनीतिक व्यवस्था के आने बाद विकसित हुआ। शाऊल पहला व्यक्ति था जिसने एक स्थाई सेना को निर्मित किया था (1 शमूएल 13:2; 24:2; 26:2)।

जिसे शाऊल ने आरम्भ किया, उसे दाऊद चलाता रहा। उसने सेना में वृद्धि की, किराए पर सैनिकों को अन्य क्षेत्रों से लाकर रखा जो केवल उसके प्रति विश्वासयोग्य थे (2 शमूएल 15:19-22) और अपनी सेनाओं के प्रत्यक्ष नेतृत्व को सेना के सेनापित याकूब को दे दिया। दाऊद की अधीनता में, इस्राएल भी अपनी सैन्य नीतियों में आक्रमक होने के द्वारा पड़ोसी राज्यों जैसे अम्मोन (2 शमूएल 11:1; 1 इतिहास 20:1-3) को अपने अधीन कर लिया। दाऊद ने वर्ष में एक महीना सेवा करने वाले बारह समूहों जो प्रत्येक 24,000 सैनिकों से मिलकर बने हुए समूह थे, आवर्ती सैनिक सेवा पद्धति को आरम्भ किया (1 इतिहास 27)। हांलाकि सुलेमान का शासनकाल शान्तिमय था, फिर भी उसने सेना का आगे विस्तार, इसमें रथों और धुड़सवार सैनिकों को जोड़ने के द्वारा किया (1 राजा 10:26)। स्थाई सेना (हांलाकि सुलेमान की मृत्यु के पश्चात् राज्य के विभाजन के बाद भी) 586 ईस्वी सन् तक बनी रही, जब इस्राएल (यहूदा) एक राजनीतिक इकाई के रूप में अस्तित्व में बने रहने से समाप्त हो गया।

नए नियम में, यीशु ने उस समय आश्चर्य प्रगट किया जब एक रोमी सूबेदार (एक सौ सैनिकों की पलटन का एक अधिकारी) उसके पास आया। सूबेदार की यीशु के प्रति प्रतिक्रिया ये संकेत देती है कि जैसे अधिकार के बारे में उसकी समझ स्पष्ट थी, उसी के साथ यीशु में उसके विश्वास की समझ स्पष्ट थी (मत्ती 8:5-13)। यीशु ने उसके व्यवसाय की निन्दा नहीं की। नए नियम में कई सूबेदारों के बारे में उल्लेख किया गया है जिनकी प्रशंसा मसीहियों, परमेश्वर-से-डरने वाले, और सद्चरित्र लोगों के रूप में की गई है (मत्ती 8:5; 27:54; मरकुस 15:39-45; लूका 7:2; 23:47; प्रेरितों के काम 10:1; 21:32; 28:16)।

स्थान और पदवियाँ परिवर्तित हो सकती हैं, परन्तु हमारी सशस्त्र सेनाओं को उतना ही मूल्य दिया जाना चाहिए जितना बाइबल में सूबेदारों को दिया गया है। एक सैनिक का पद बहुत ही ज्यादा सम्मानजनक है। उदाहरण के लिए, पौलुस एक मसीही विश्वासी इपफ्रुदीतुस का विवरण "संगी योद्धा के रूप मे करता है (फिलिप्पियों 2:25)। साथ ही बाइबल प्रभु में शक्तिशाली होने के लिए परमेश्वर के सारे हथियारों को अपने ऊपर डाल लेने के लिए सैन्य शब्दावलियों का उपयोग करती है (इफिसियों 6:12-20), जिसमें एक सैनिक के सारे हथियार – टोप, ढाल और तलवार सम्मिलित है।

हाँ, यह ठीक है कि बाइबल सेना में सेवा करने के बारे में संबोधित प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष करती है। मसीही पुरूष और स्त्रियाँ जो अपने देश की सेवा अपने चरित्र, मर्यादा और सम्मान के साथ करते हैं, को आश्वासन दिया गया है कि जिस नागरिक सेवा को वे करते हैं, उसे हमारे प्रभुता सम्पन्न परमेश्वर के द्वारा क्षमा किया गया है और सम्मान दिया गया है। वे जो ससम्मान सेना में सेवा करते हैं, हमारे सम्मान और कृतज्ञता को पाने के लायक हैं।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बाइबल एक विश्वासी के बारे में क्या कहती है जो सैन्य सेवा में कार्यरत् हैॽ