क्या सर्वमुक्तिवाद/विश्वव्यापी मुक्ति बाइबल आधारित हैॽ



प्रश्न: क्या सर्वमुक्तिवाद/विश्वव्यापी मुक्ति बाइबल आधारित हैॽ

उत्तर:
सर्वमुक्तिवाद एक ऐसी मान्यता है कि जिसके अनुसार सभी बचा लिए जाएगें। आज बहुत से ऐसे लोग हैं जो सर्वमुक्तिवादी उद्धार को मानते हैं और विश्वास करते हैं कि सभी लोग अन्त में स्वर्ग में ही जाएगें। शायद यह उन पुरूष और स्त्रियों का विचार है जो कि नरक में अनन्त पीड़ा में जीवन व्यतीत कर रहे हैं जिसके कारण कुछ लोग इस विषय के ऊपर पवित्र शास्त्र की शिक्षा का इन्कार कर देते हैं। कुछ लोगों के लिए यह परमेश्वर के प्रेम और दया के ऊपर ज्यादा-जोर दिया है – और परमेश्वर के न्याय और धार्मिकता को अन्देखा करना – जो उनका मार्गदर्शन इस विश्वास की ओर करता है कि परमेश्वर प्रत्येक जीवित प्राणी के ऊपर अपनी दया को कर देगा। परन्तु पवित्र शास्त्र यह शिक्षा देता है कि कुछ लोग जो नरक में अनन्तकाल के लिए जीवन को व्यतीत करेंगें।

सर्वप्रथम, बाइबल स्पष्ट करती है कि उद्धार न पाए हुए लोग सदैवकाल के लिए नरक में रहेंगें। यीशु के अपने शब्द इस बात की पुष्टि करते हैं कि स्वर्ग में छुटकारा पाए हुओं के द्वारा व्यतीत किया हुआ समय ठीक उतना ही होगा जितना नरक में उद्धाररहित लोगों का होगा। मत्ती 25:46 कहता है, "और ये [उद्धाररहित] अनन्त दण्ड भोगेंगे परन्तु धर्मी अनन्त जीवन में प्रवेश करेंगे।" इस वचन के अनुसार, उद्धाररहित लोगों के लिए सजा ठीक वैसे ही अनन्तकालीन होगी जैसे धर्मीयों के लिए जीवन की। कुछ विश्वास करते हैं कि नरक में जो लोग होंगे अन्त में उनका अस्तित्व ही समाप्त हो जाएगा,परन्तु प्रभु स्वयं पुष्टि करता है कि वे सदैव के लिए वहाँ पर बने रहेंगे। मत्ती 25:41 और मरकुस 9:44 नरक का विवरण "अनन्तकाल की आग" और "न बुझनेवाली आग" से करते हैं।

कैसे एक व्यक्ति एक न बुझनेवाली आग से बच सकता हैॽ कई लोग यह विश्वास करते हैं कि सभी मार्ग – सभी धर्म और मान्यताएँ – स्वर्ग की ओर ले जाती हैं, या वे ये मानते हैं कि परमेश्वर इतना ज्यादा प्रेम और दया से भरा हुआ है कि वह सभी लोगों को स्वर्ग में जाने की अनुमति देगा। निश्चित रूप से परमेश्वर प्रेम और दया से भरा हुआ है; उसके यही गुणों थे जिसके कारण उसने अपने पुत्र यीशु मसीह को, हमारे लिए इस पृथ्वी पर क्रूस के ऊपर मरने के लिए भेज दिया। यीशु मसीह ही केवल एक दरवाजा है जो कि स्वर्ग में अनन्तकाल की ओर मार्गदर्शन देता है। प्रेरितों का काम 4:12 कहता है, "किसी दूसरे के द्वारा उद्धार नहीं; क्योंकि स्वर्ग के नीचे मनुष्यों में और कोई दूसरा नाम नहीं दिया गया, जिसके द्वारा हम उद्धार पा सकें।" "क्योंकि परमेश्वर एक ही है, और परमेश्वर और मनुष्यों के बीच में भी एक ही बिचवई है, अर्थात् मसीह यीशु जो मनुष्य है" (1 तिमुथियुस 2:5)। यूहन्ना 14:6, यीशु कहता है, "मार्ग और सत्य और जीवन मैं ही हूँ; बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुँच सकता।" यूहन्ना 3:16, "क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे वह नष्ट न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए।" यदि हम परमेश्वर के पुत्र को इन्कार करना चुनते हैं, तो हम उद्धार को प्राप्ति करने की शर्तों को पूरा नहीं करते हैं (यूहन्ना 3:16, 18, 36)।

इन वचनों के साथ, यह स्पष्ट हो जाता है कि सर्वमुक्तिवाद और विश्वव्यापी उद्धार बाइबल आधारित मान्यताएँ नहीं हैं। सर्वमुक्तिवाद एकदम सीधा जो कुछ पवित्र शास्त्र शिक्षा देता है, उसके विरोध में है। जबकि अन्य लोग मसीहियों को असहनशील होने और "विशेष" तर्कवाक्यों में विश्वास रखने के लिए दोष देते हैं, यह स्मरण रखना महत्वपूर्ण है कि यह मसीह के स्वयं कहे हुए शब्द हैं। मसीहियों ने इन विचारों को स्वयं से विकसित नहीं किया है; मसीही तो केवल वही कह रहे हैं जो पहले से ही प्रभु ने कह दिया है। लोग इस सन्देश का इन्कार कर देते हैं क्योंकि वे अपने पापों का सामना नहीं करना चाहते हैं और न ही स्वीकार करना चाहते हैं कि उन्हें बचाए जाने के लिए प्रभु की आवश्यकता है। यह कहना कि वे जो उद्धार के लिए उसके पुत्र के द्वारा मुक्ति के किए हुए प्रबन्ध को इन्कार करने वाले बचा लिए जाएगें उसकी पवित्रता और परमेश्वर के न्याय को कम आंकना है और यीशु के हमारे बदले में दिए हुए बलिदान की आवश्यकता को नकरना है।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



क्या सर्वमुक्तिवाद/विश्वव्यापी मुक्ति बाइबल आधारित हैॽ