ईसाई होना केह् ऐ ?




सुआल : ईसाई होना केह् ऐ ?

जबाब :
शब्दकोश च ईसाई होने दा मतलब उं’या गै ऐ जियां इक माह्नू यीशु उप्पर मसीहा दे रूप च विश्वास करदा ऐ जां उस धर्म पर विश्वास करदा ऐ, जेह्ड़ा यीशु आस्तै दस्से गेदे नियमें उप्पर चलदा ऐ। जि’यां के शुरुआत लेई एह् इक उत्तम बिंदु ऐ, मते सारे शब्दकोश आह्गंर एह् परिभाशा संपूर्ण नेईं ऐ। एह्दे च कुतै न कुतै कोई कमी रेई जंदी ऐ जेह्ड़ी बाईबल च दस्से गेदे सच्च दे अनुसार ओह्दी व्याख्या नेईं करदी ऐ। आधुनक संदर्भ च ईसाई शब्द दा प्रयोग त्र’ऊं तरीके कन्नै कीता जंदा ऐ। (ऐक्ट 11:26, 2628:1 पीटर 4:16) सारे शा पैह्लें यीशु मसीहा दे अनुयायें गी ईसाई आखेआ जंदा ऐ। अंतोच (एक्ट 11:26) कीजे उंदा व्यहार, कम्म काज, बोलना, रैह्न-सैह्न यीशु आह्गंर ऐ।

‘ईसाई’ शब्द अपना असली अर्थ गोआंदा जा करदा ऐ, कीजे हून एह्दा प्रयोग सिर्फ इक धार्मक माह्नू जा उच्च आदर्श आह्ले माह्नू लेई कीता जंदा ऐ भामें ओह् यीशु मसीहा दा सच्चा अनुयायी होए जां नेईं। मते सारे लोक जेह्ड़े यीशु पर विश्वास नेईं करदे हैन अपने-आप गी ईसाई आखदे न कीजे ओह् रोजाना चर्च जंदे न जां इक ईसाई मुल्ख च रौंह्दे न, पर सिर्फ चर्च जाना, अपने शा गरीबें दी मदद करना जां इक चंगा इंसान होना गै तुसेंगी ईसाई नेईं बनाई ओड़दा ऐ। सिर्फ चर्च जाना गै तुसेंगी ईसाई नेईं बनाई ओड़दा, कीजे इ’यां चर्च च जाना अपनी गड्डी गी ठीक करोआने आस्तै गैरज च जाने दे बरोबर ऐ। चर्च दा स्थाई सदस्य बनना, निश्ठा कन्नै सेवा करना, चर्च आसेआ दित्ते गेदे कम्में गी पूरा करना गै ईसाई होना नेईं ऐ।

बाईबल असेंगी सखांदी ऐ सिर्फ चंगे कर्म गै असेंगी ईश्वर दी शरधा दा पात्तर नेईं बनांदे, टीटस 3:5 गलांदे न, उ’न्न असेंगी बचाया ऐ, इसलेई नेईं जे असें चंगे कम्म कीते न, बल्के उ’न्न अपनी मैह्मा कारण असेंगी बख्शेआ ऐ, उ’न्न पूर्वजन्म जरिये साढ़ी आत्मा गी बी पवित्र कीता ऐ जि’न्न ईश्वर कन्नै फ्ही जन्म लैता ऐ (जान 3:3 जान 3:7;1 पीटर 1:23) ते पूरी चाल्ली कन्नै यीशु मसीहा उप्पर विश्वास करदा ऐ। फीसन 2:8 असेंगी दसदा ऐ जे” मैह्मा ते विश्वास कारण तुस बचाई लैते गे ओ, तुस अपने-आप नेईं बचे ओ, एह् तुंदे पर ईश्वर दी कृपा होई ऐ।

इक सभ्य ईसाई ओह् ऐ जेह्ड़ा पूरी चाल्ली यीशु मसीहा आसेआ कीते गेदे कम्में पर पूरी शरधा कन्नै विश्वास करदा ऐ, जिस च ओह्दे आसेआ क्रास उप्पर लटकियै मृतु प्राप्त करदे होई साढ़े पापें दा मुल्ल चकांदे होई त्र’ऊं दिनें बाद पुर्न जीवत होना शामल ऐ। जान 1:12 च असेंगी दसदे न “ हून जि’न्न बी उसगी पाया, जेह्ड़ा बी ओह्दे नांऽ उप्पर विश्वास करदा ऐ, उ’न्न उनेंगी परम पिता परमेश्वर दा अक्खीं दा तारा बनाई ओड़ेआ ऐ। सच्चा ईसाई होने दी नशानी ऐ दुएं कन्नै हिरख करना, ईश्वर आसेआ आखे गेदे नियमें दा पालन करना।(1 जान 2:4, 10) इक सच्चे ईसाई गी बास्तव च ईश्वर दा अक्खीं दा तारा होना चाहिदा, ओह्दे परिवार दा इक म्हत्वपूर्ण अंग बनना चाहिदा, जिसी यीशु मसीहा ने इक नमीं जिंदगी ते नमीं दिशा दित्ती ऐ।

जो किश इत्थें लिखे दा ऐ उसी पढ़ने दे बाद तुसें ईसाई बनने दा फैसला कीता ऐ, अगर हां ते कृपा करियै “अ’ऊं अज्ज ईसायत गी कबूल करना” उप्पर क्लिक करो



डोगरी दे मुक्ख पन्ने पर बापस जाओ



ईसाई होना केह् ऐ ?